लखनऊ । सपा-बसपा गठबंधन के बाद आंबेडकर को लेकर छिड़ी रार के बीच भाजपा ने व्यापक रणनीति बनाई है। आंबेडकर जयंती पर पार्टी ने प्रदेशव्यापी कार्यक्रम तय किये हैं। इससे पहले शुक्रवार को पार्टी के स्थापना दिवस पर बूथ और सेक्टरवार कार्यक्रम तय किये गए हैं। जिलों में प्रभारी मंत्रियों के दौरे सुनिश्चित किये गए हैं। इन कार्यक्रमों में भी भाजपा आंबेडकर जयंती के लिए माहौल बनाएगी।

भाजपा का स्थापना दिवस समारोह शुक्रवार को बूथ स्तर पर मनाया जाएगा। प्रदेश प्रवक्ता डॉ. चंद्रमोहन ने बताया कि भाजपा स्थापना के 38 वर्ष बाद आज विश्व का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है। सबका साथ-सबका विकास का मूल मंत्र और अन्त्योदय के संकल्प के साथ भाजपा अपना स्थापना दिवस बूथ से लेकर राष्ट्रीय स्तर पर मनाएगी। डॉ. चंद्रमोहन ने बताया कि स्थापना दिवस कार्यक्रम के लिए भी सेक्टर प्रभारी बनाये गये हैं। जिलों में प्रभारी बनाये गये मंत्री जिलों में प्रवास पर रहेंगे। स्थापना दिवस को पर्व मानकर कार्यकर्ता नई ऊर्जा के साथ जिम्मेदारियों में जुटेंगे।

ध्यान रहे कि मोदी सरकार आंबेडकर जयंती पर 14 अप्रैल से पांच मई तक ग्राम स्वराज अभियान का आयोजन कर रही है। इसके तहत प्रदेश में भी ग्राम विकास, गरीब कल्याण और सामाजिक न्याय पर अलग-अलग कार्यक्रमों के अलावा दलित हितों को विशेष प्राथमिकता मिलेगी और डॉ. आंबेडकर के संदेशों का प्रसारण होगा। शुक्रवार से भाजपा के स्थापना दिवस कार्यक्रम से ही पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय के साथ ही आंबेडकर के विचारों को भी जन-जन तक पहुंचाया जाएगा।

डॉ. चंद्रमोहन का कहना है कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अन्त्योदय दर्शन को आधार बनाकर वंचित, शोषित, दलित वर्ग के आर्थिक और सामाजिक उत्थान के काम में लगी मोदी और योगी सरकार की उपलब्धियां भी सेक्टर और बूथ स्तर पर ले जाने की योजना है।

loading...